आंखें हमारी कहां से लाएगा!

तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा,

मगर वो आंखें हमारी कहां से लाएगा|

बशीर बद्र