लक्षण सुबह के हैं!

मानो न मानो तुम ’उदय’ लक्षण सुबह के हैं,
चमकीला तारा कोई नहीं आसमान में।

उदय प्रताप सिंह