आंख में पानी नहीं रहा!

इन बादलों की आंख में पानी नहीं रहा,
तन बेचती है भूख एक मुट्ठी धान में।

उदय प्रताप सिंह