हालात न लिखने पाऊँ!

दिन को दिन रात को मैं रात न लिखने पाऊँ,
उनकी कोशिश है कि हालात न लिखने पाऊँ|

राजेश रेड्डी

उसे आज तक ये पता नहीं!

सर-ए-राह कुछ भी कहा नहीं कभी उस के घर मैं गया नहीं,
मैं जनम जनम से उसी का हूँ उसे आज तक ये पता नहीं|

बशीर बद्र

दुनिया में पनपना नहीं आता!

भूले से भी लब पर सुख़न अपना नहीं आता,
हाँ हाँ मुझे दुनिया में पनपना नहीं आता|

आनंद नारायण मुल्ला

तुम भीतर!

एक बार फिर से मैं आज स्वर्गीय भवानी प्रसाद मिश्र जी की एक कविता शेयर कर रहा हूँ| भवानी दादा बड़े सहज अंदाज़ में अपनी गहरी बात कह जाते थे| आज की कविता में भवानी दादा ने यह विषय रखा है कि किस प्रकार अपने भीतर को बाहर से जोड़ने पर ही रचनाकार प्रभावी रचना लिख सकता है|
लीजिए आज प्रस्तुत है स्वर्गीय श्री भवानी प्रसाद मिश्र जी की यह कविता–

तुम भीतर जो साधे हो
और समेटे हों
कविता नहीं बनेगी वह

क्योंकि
कविता तो बाहर है तुम्हारे
अपने भीतर को

बाहर से जोड़ोगे नहीं
बाहर
जिस-जिस तरफ़ जहाँ -जहाँ

जा रहा है
अपने भीतर को
उस-उस तरफ़ वहाँ -वहां


मोड़ोगे नहीं
और
पहचान नहीं होने दोगे

अब तक के इन दो-दो
अनजानों की
तो तुम्हारी कविता की

तुम्हारे गीत-गानों की
गूँज-भर
फैलेगी कभी और कहीं
नहीं खिलेंगे अर्थ
बहार के उन बंजरों में
जहाँ खिले बिना

कुछ नहीं होता गुलाब
कुछ नहीं होता हिना
कुछ नहीं

जाता है ठीक गिना ऐसे में
उससे जिसका नाम
काल है

बड़ा हिसाबी है काल
वह तभी लिखेगा
अपनी बही के किसी

कोने में तुम्हें
जब तुम
भीतर और बाहर को

कर लोगे
परस्पर एक ऐसे
जैसे जादू-टोने में

खाली मुट्ठी से
झरता है ज़र
झऱ झऱ झऱ


(आभार- एक बात मैं और बताना चाहूँगा कि अपनी ब्लॉग पोस्ट्स में मैं जो कविताएं, ग़ज़लें, शेर आदि शेयर करता हूँ उनको मैं सामान्यतः ऑनलाइन उपलब्ध ‘कविता कोश’ अथवा ‘Rekhta’ से लेता हूँ|)

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
********

अंदाज़ा लगाना नहीं आता!

दुख अपना अगर हमको बताना नहीं आता,
तुमको भी तो अंदाज़ा लगाना नहीं आता|

वसीम बरेलवी

जिनमें बयाँ याद रहेगा!

कुछ मीर के अबियत थे, कुछ फ़ैज़ के मिसरे,
एक दर्द का था जिनमें बयाँ याद रहेगा|

इब्ने इंशा

ये अन्दाज़-ए-बयाँ मेरा!

पड़ेगा वक़्त जब मेरी दुआएँ काम आएंगी,
अभी कुछ तल्ख़ लगता है ये अन्दाज़-ए-बयाँ मेरा|

बेकल उत्साही

जुबां है किसी बेजुबान की!

जुल्फों के पेंचो-ख़म में उसे मत तलाशिये,
ये शायरी जुबां है किसी बेजुबान की|

गोपालदास ‘नीरज’

गर्दनों पर टाइयां हैं!

दिलों की बात ओंठों तक न आए,
कसी यूँ गर्दनों पर टाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त

आँखों ने कुछ और कह दिया!

लेकिन हमारी आँखों ने कुछ और कह दिया,
कुछ और कहते रह गए अपनी ज़बाँ से हम|

राजेश रेड्डी