कोई चेहरा दिखाई पड़ता है!

हमारे शहर में बे-चेहरा लोग बसते हैं,
कभी-कभी कोई चेहरा दिखाई पड़ता है|

जाँ निसार अख़्तर