दुकानें खुलीं, कारख़ाने लगे!

कभी बस्तियाँ दिल की यूँ भी बसीं,
दुकानें खुलीं, कारख़ाने लगे|

बशीर बद्र