मुझको यक़ीं है!

मुझको यक़ीं है सच कहती थीं जो भी अम्मी कहती थीं,
जब मेरे बचपन के दिन थे चाँद में परियाँ रहती थीं|

जावेद अख्तर