सारा जहां हमारा 6

पतला है हाल-ए-अपना, लेकिन लहू है गाढ़ा
फौलाद से बना है, हर नौजवाँ हमारा|


मिल-जुलके इस वतन को, ऐसा सजायेंगे हम
हैरत से मुँह तकेगा सारा जहाँ हमारा|


चीन-ओ-अरब हमारा …


वो सुबह कभी तो आएगी

सारा जहां हमारा 5

तालीम है अधूरी, मिलती नही मजूरी
मालूम क्या किसीको, दर्द-ए-निहाँ हमारा
चीन-ओ-अरब हमारा …

फिर सुबह होगी

सारा जहां हमारा 4

होने को हम कलन्दर, आते हैं बोरी बन्दर
हर एक कुली यहाँ का है राज़दाँ हमारा
चीन-ओ-अरब हमारा …

सारा जहां हमारा 3

जितनी भी बिल्डिंगें थीं, सेठों ने बाँट ली हैं
फ़ुटपाथ बम्बई के हैं आशियाँ हमारा|
चीन-ओ-अरब हमारा …

फिर सुबह होगी

सारा जहां हमारा 2

खोली भी छिन गई है, बेन्चें भी छिन गई हैं
सड़कों पे घूमता है अब कारवाँ हमारा
जेबें हैं अपनी खाली, क्यों देता वरना गाली
वो सन्तरी हमारा, वो पासबाँ हमारा
चीन-ओ-अरब हमारा …


फिर सुबह होगी

सारा जहां हमारा 1

Phir Subhah Hogi

चीन-ओ-अरब हमारा, हिन्दोस्ताँ हमारा
रहने को घर नहीं है, सारा जहाँ हमारा
चीन-ओ-अरब हमारा …
फिल्म : फिर सुबह होगी