कहाँ टालने से टलते हैं!

उसके पहलू से लग के चलते हैं,
हम कहाँ टालने से टलते हैं|

जॉन एलिया