साफ़गोई में दम-ब-दम टूटे!

आईने, आईने रहे, गरचे,
साफ़गोई में दम-ब-दम टूटे|

सूर्यभानु गुप्त