न अच्छा हुआ बुरा न हुआ!

दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ,
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ|

मिर्ज़ा ग़ालिब