तव मूरति विधु उर बसहि, सोई स्यामता आभास!

आज फिर से एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट शेयर कर रहा हूँ-     आज गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस का एक अत्यंत प्रेरक प्रसंग याद कर लेते हैं। आजकल नियोजक अपने कर्मचारियों का चयन करते समय तथा बाद में अनेक अवसरों पर उनका मनोवैज्ञानिक परीक्षण करते हैं। श्रीराम जी को लंका पर चढ़ाई करनी … Read more

%d bloggers like this: