Categories
Uncategorized

श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’ की रचनायें-15

मेरी उपलब्ध रचनाएं यहाँ शेयर करने का आज पंद्रहवां दिन है, इस प्रकार जहाँ इन सबको, जितनी उपलब्ध हैं, एक साथ शेयर कर लूंगा जिससे यदि कभी कोई संकलनकर्ता इनको ऑनलाइन संकलन में शामिल करना चाहे तो कर ले। इसके लिए मैं अपनी ब्लॉग पोस्ट्स में जिस क्रम में कविताएं पहले शेयर की हैं, उसी क्रम में उनको लेकर यहाँ पुनः एक साथ शेयर कर रहा हूँ।

जैसा मैंने पहले भी बताया है, हमेशा ‘श्रीकृष्ण शर्मा’ नाम से रचनाएं लिखता रहा, उनका प्रकाशन/ प्रसारण भी हमेशा इसी नाम से हुआ, नवगीत से संबंधित पुस्तकों/ शोध ग्रंथों में भी मेरा उल्लेख इसी नाम से आया है, लेकिन अब जबकि मालूम हुआ कि इस नाम से कविताएं आदि लिखने वाले कम से कम दो और रचनाकार रहे हैं, इसलिए अब मैं अपनी कविताओं को पहली बार श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’ नाम से प्रकाशित कर रहा हूँ, जिससे एक अलग पहचान बनी रहे।

उस समय जो कविताएं किसी हद तक ‘परफेक्ट’ लगती थीं उनको मित्रों के बीच, गोष्ठियों में पढ़ देता था। बहुत सी पांडुलिपियां ऐसी होती थीं जिनको लेकर तसल्ली नहीं होती थी।

ऐसी ही कुछ कागज़ पर सुरक्षित कविताएं, जिनको मैंने उस समय फाइनल नहीं माना और बाद में उनको फाइनल रूप देने का समय नहीं मिला, आज की तारीख में सोचता हूँ कि उनको ‘जैसी हैं, जहाँ हैं, वैसी शेयर कर लेता हूँ।

एक कविता आज प्रस्तुत है-

 

 

सपनों के झूले में
झूलने का नाम है- बचपन,
तब तक-जब तक कि
इन सपनों की पैमाइश
जमीन के टुकड़ों,
इमारत की लागत
और बैंक खाते की सेहत से न आंकी जाए।

 

जवान होने का मतलब है
दोस्तों के बीच होना
ठहाकों की तपिश से
माहौल को गरमाना,
और भविष्य के प्रति
अक्सर लापरवाह होना।

 

बूढ़ा होने का मतलब है-
अकेले होना,
जब तक कोई, दोस्तों की
चहकती-चिलकती धूप में है,
तब तक वह बूढ़ा कैसे हो सकता है।

 

काश यह हर किसी के हाथ में होता
कि वह-
जब चाहे बच्चा, जब चाहे जवान बना रहता,
और बूढ़ा होना, मन से-
यह तो विकल्पों में
शामिल ही नहीं है।

 

-श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’

आज के लिए इतना ही,
आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है।

*******

Categories
Uncategorized

श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’ की रचनायें-12

मेरी उपलब्ध रचनाएं यहाँ शेयर करने का आज बारहवां दिन है, इस प्रकार जहाँ इन सबको, जितनी उपलब्ध हैं, एक साथ शेयर कर लूंगा जिससे यदि कभी कोई संकलनकर्ता इनको ऑनलाइन संकलन में शामिल करना चाहे तो कर ले। इसके लिए मैं अपनी ब्लॉग पोस्ट्स में जिस क्रम में कविताएं पहले शेयर की हैं, उसी क्रम में उनको लेकर यहाँ पुनः एक साथ शेयर कर रहा हूँ।

जैसा मैंने पहले भी बताया है, हमेशा ‘श्रीकृष्ण शर्मा’ नाम से रचनाएं लिखता रहा, उनका प्रकाशन/ प्रसारण भी हमेशा इसी नाम से हुआ, नवगीत से संबंधित पुस्तकों/ शोध ग्रंथों में भी मेरा उल्लेख इसी नाम से आया है, लेकिन अब जबकि मालूम हुआ कि इस नाम से कविताएं आदि लिखने वाले कम से कम दो और रचनाकार रहे हैं, इसलिए अब मैं अपनी कविताओं को पहली बार श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’ नाम से प्रकाशित कर रहा हूँ, जिससे एक अलग पहचान बनी रहे।

उस समय जो कविताएं किसी हद तक ‘परफेक्ट’ लगती थीं उनको मित्रों के बीच, गोष्ठियों में पढ़ देता था। बहुत सी पांडुलिपियां ऐसी होती थीं जिनको लेकर तसल्ली नहीं होती थी।

ऐसी ही कुछ कागज़ पर सुरक्षित कविताएं, जिनको मैंने उस समय फाइनल नहीं माना और बाद में उनको फाइनल रूप देने का समय नहीं मिला, आज की तारीख में सोचता हूँ कि उनको ‘जैसी हैं, जहाँ हैं, वैसी शेयर कर लेता हूँ।

एक कविता आज प्रस्तुत है-

 

 

 

पेड़

पेड़ हमारी आस्थाओं का प्रतिफलन है,
पेड़ बनने के लिए ज़रूरी है
कि पहले हम ऐसा बीज हों-
जिसे धरती स्वीकार करे,
फिर धरती में रचे-बसे
रसों-स्वादों, मूल रसायनों से भी
हमारा तालमेल हो,
तभी हम धरती का सीना चीरकर
अपना नाज़ुक सिर, शान से उठा सकेंगे।
फिर यहाँ की आब-ओ-हवा, गर्द-ओ-गुबार
धूप और बरसात, जब सहन करेंगे
और दूसरों की इनसे रक्षा करेंगे,
तभी कहला सकेंगे- पेड़,
यह सब यदि संभव नहीं-
तो फिर शान से इंसान बने रहो,
जी भरकर नफरत करो दूसरों से,
और करो ऐसे काम, कि वे भी
आपसे नफरत करें।
कुदरत, सभ्यता, शिष्टता, नागरिकता के
जितने भी मापदंड हैं, नियम हैं
उन्हें शान से तोड़ो,
क्योंकि इंसान होने के लिए
सिर्फ इंसान जैसा दिखना ज़रूरी है।
उसके बाद तो इंसान सबसे ऊपर है,
अपनी पहचान रोज़ तोड़ता है-
फिर भी इंसान ही कहलाता है।
क्या ही अच्छा होता अगर
इंसान का भी, धरती से
ऐसा ही रिश्ता होता-
जैसा पेड़ का होता है।
तब यह दुनिया, बाहर से भी हरी-भरी होती
और भीतर से भी!

-श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’

आज के लिए इतना ही,
आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है।
नमस्कार।

****

Categories
Uncategorized

श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’ की रचनायें-6 : आम आदमी, बहेलिए!

मेरी उपलब्ध रचनाएं यहाँ शेयर करने का आज छठा दिन है, इस प्रकार जहाँ इन सबको, जितनी उपलब्ध हैं, एक साथ शेयर कर लूंगा जिससे यदि कभी कोई संकलनकर्ता इनको ऑनलाइन संकलन में शामिल करना चाहे तो कर ले। इसके लिए मैं अपनी ब्लॉग पोस्ट्स में जिस क्रम में कविताएं पहले शेयर की हैं, उसी क्रम में उनको लेकर यहाँ पुनः एक साथ शेयर कर रहा हूँ।

जैसा मैंने पहले भी बताया है, हमेशा ‘श्रीकृष्ण शर्मा’ नाम से रचनाएं लिखता रहा, उनका प्रकाशन/ प्रसारण भी हमेशा इसी नाम से हुआ, नवगीत से संबंधित पुस्तकों/ शोध ग्रंथों में भी मेरा उल्लेख इसी नाम से आया है, लेकिन अब जबकि मालूम हुआ कि इस नाम से कविताएं आदि लिखने वाले कम से कम दो और रचनाकार रहे हैं, इसलिए अब मैं अपनी कविताओं को पहली बार श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’ नाम से प्रकाशित कर रहा हूँ, जिससे एक अलग पहचान बनी रहे।

लीजिए आज इस क्रम की इस छठी पोस्ट में दो और रचनाओं को शेयर कर रहा हूँ।

पहली रचना, देश और दुनिया में आम आदमी की स्थिति को अभिव्यक्त करती है-

 

 

अखबारों में, सेमीनारों में, जीता है आम आदमी!

 

श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’

मंदिर के पापों ने कर दिया,
नगरी का आचरण सियाह,
होता है रोज आत्मदाह।

 

मौलिक प्रतिभाओं पर फतवों का
बोझ लादती अकादमी,
अखबारों में सेमीनारों में
जीता है आम आदमी,
सेहरों से होड़ करें कविताएं
कवि का ईमान वाह-वाह।
होता है रोज आत्मदाह।।

 

जीने की गूंगी लाचारी ने,
आह-अहा कुछ नहीं कहा,
निरानंद जीवन के नाम पर,
एक दीर्घ श्वास भर लिया,
और प्रतिष्ठान ने दिखा दिया
पंथ ताकि हो सके निबाह।
होता है रोज आत्मदाह।।

 

हर अनिष्टसूचक सपना मां का,
बेटे की सुधि से जुड़ जाता है,
और वो कहीं पसरा बेखबर
सुविधा के एल्बम सजाता है।
ये युग कैसा जीवन जीता है,
उबल रहा तेल का कड़ाह।
होता है रोज आत्मदाह।।

 

और अब प्रस्तुत है आज की दूसरी कविता,जो हमारे देश में चुनावों के समय बनने वाले महौल को दर्शाती हैं-

 

बहेलिए

 

धागे तो कच्चे हैं, मनमोहक नारों के,
लेकिन जब जाल बुने जाते हैं यारों के,
और ये शिकारी, डालते हैं दाना,
हर रोज़ नए वादों का,
भाग्य बदल देने के
जादुई इरादों का,
फंसती है भोले कबूतर सी जनता तब,
जाल समेट, राजनैतिक बहेलिए
बांधते हैं, जन-गण की उड़ाने स्वच्छंद
और बनते हैं भाग्यविधाता-
अभिशप्त ज़माने के।

 

-श्रीकृष्णशर्मा ‘अशेष’

आज के लिए इतना ही,
आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है।
नमस्कार।

*********

Categories
Uncategorized

घर तो रखवारों ने लूटा!

हिंदी कविता की जो श्रवण परंपरा रही है, कवि सम्मेलनों के माध्यम से लोगों तक पहुंचने की, उसमें बहुत से लोकप्रिय कवि रहे हैं और उन्होंने हिंदी कविता कोश को बहुत समृद्ध किया है। यह अलग बात है कि बाद में कवि सम्मेलन के मंच चुटकुलेबाजी को ज्यादा समर्पित हो गए, हालांकि आज भी कुछ खास आयोजनों में अच्छी हिंदी कविता सुनी जाती है।

आज मैं हिंदी कवि सम्मेलनों में अपने समय में धूम मचाने वाले एक कवि स्व. श्री गोपाल सिंह नेपाली जी की एक लोकप्रिय कविता आपको समर्पित कर रहा हूँ-

 

बदनाम रहे बटमार मगर, घर तो रखवारों ने लूटा
मेरी दुल्हन-सी रातों को, नौ लाख सितारों ने लूटा
दो दिन के रैन बसेरे की,
हर चीज़ चुराई जाती है।
दीपक तो अपना जलता है,
पर रात पराई होती है।
गलियों से नैन चुरा लाए
तस्वीर किसी के मुखड़े की,
रह गए खुले भर रात नयन, दिल तो दिलदारों ने लूटा।
मेरी दुल्हन-सी रातों को, नौ लाख सितारों ने लूटा॥

 

शबनम-सा बचपन उतरा था,
तारों की गुमसुम गलियों में।
थी प्रीति-रीति की समझ नहीं,
तो प्यार मिला था छलियों से।
बचपन का संग जब छूटा तो,
नयनों से मिले सजल नयना।
नादान नये दो नयनों को, नित नये बजारों ने लूटा।
मेरी दुल्हन-सी रातों को, नौ लाख सितारों ने लूटा॥

 

हर शाम गगन में चिपका दी,
तारों के अक्षर की पाती।
किसने लिक्खी, किसको लिक्खी,
देखी तो पढ़ी नहीं जाती।
कहते हैं यह तो किस्मत है,
धरती के रहनेवालों की।
पर मेरी किस्मत को तो इन, ठंडे अंगारों ने लूटा।
मेरी दुल्हन-सी रातों को, नौ लाख सितारों ने लूटा॥

 

अब जाना कितना अंतर है,
नज़रों के झुकने-झुकने में।
हो जाती है कितनी दूरी,
थोड़ा-सी रुकने-रुकने में।
मुझ पर जग की जो नज़र झुकी,
वह ढाल बनी मेरे आगे।
मैंने जब नज़र झुकाई तो, फिर मुझे हज़ारों ने लूटा।
मेरी दुल्हन-सी रातों को नौ लाख सितारों ने लूटा॥

 

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

************