करवट भी बदलने नहीं देते!

किस नाज़ से कहते हैं वो झुंझला के शब-ए-वस्ल,
तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते|

अकबर इलाहाबादी