झुलस रहे हैं यहाँ छाँव बाँटने वाले!

झुलस रहे हैं यहाँ छाँव बाँटने वाले,
वो धूप है कि शजर इलतिजाएँ करने लगे|

राहत इन्दौरी