मकां नहीं मिलता!

कहाँ चिराग़ जलायें कहां गुलाब रखें,
छतें तो मिलती हैं लेकिन मकां नहीं मिलता|

निदा फ़ाज़ली