मगर दिल को दुखाने नहीं आते!

अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गए हैं,
आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते|

बशीर बद्र

रख-रखाव ऐसा था!

तमाम जिस्म ही घायल था, घाव ऐसा था,
कोई न जान सका, रख-रखाव ऐसा था|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

मेरा दिल ही दुखाने आई!

तेरी मानिंद तेरी याद भी ज़ालिम निकली,
जब भी आई है मेरा दिल ही दुखाने आई|

कैफ़ भोपाली

हमारा दिल दुखाना चाहिए था!

वफ़ा को आज़माना चाहिए था, हमारा दिल दुखाना चाहिए था,
आना न आना मेरी है मर्ज़ी, मगर तुमको बुलाना चाहिए था|

राहत इन्दौरी