आपका इक सौदाई भी!

दो दो शक़्लें दिखती हैं इस बहके से आईने में,
मेरे साथ चला आया है आपका इक सौदाई भी|

गुलज़ार