इक दश्त बचा है मुझमें!

इक ज़माना था कई ख्वाबों से आबाद था मैं,
अब तो ले दे के बस इक दश्त बचा है मुझमें|

राजेश रेड्डी