कोई लौट-लौट जाता है!

जागिए तो यहाँ मिलती नहीं आहट कोई,
नींद में जैसे कोई लौट-लौट जाता है|

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना