फ़ासला रखना तुझे अपनाना भी!

कितना दुश्वार था दुनिया ये हुनर आना भी,
तुझ से ही फ़ासला रखना तुझे अपनाना भी|

वसीम बरेलवी