राजे ने अपनी रखवाली की!

छायावाद युग के स्तंभ रहे महाकवियों की एक रचनाएं शेयर करने के क्रम में मैं आज स्वर्गीय सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ जी की एक रचना शेयर कर रहा हूँ| निराला जी अपने युग से बहुत आगे के कवि थे और उनकी रचना ‘राम की शक्तिपूजा’ एक कालजयी रचना है| निराला जी को उनकी उदारता और फक्कड़पन … Read more

Greatness of History or culture!

A question has been raised, rather a suggestion has been given that Indians should not feel proud of their history and let their past go! Yes, I personally feel that there is nothing great in our history as a nation, history is otherwise more recent, though it is past, that we remember. The English people … Read more

%d bloggers like this: