कुछ बचा ही नहीं!

इतने हिस्सों में बट गया हूँ मैं,
मेरे हिस्से में कुछ बचा ही नहीं|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’