कोई इन्तहा ही नहीं!

सच घटे या बढ़े तो सच न रहे,
झूठ की कोई इन्तहा ही नहीं।

कृष्ण बिहारी ‘नूर’