जिए जाना चाहिए!

दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,
जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए|

निदा फ़ाज़ली

जिए जाने की रस्म जारी है!

दर्द हल्का है साँस भारी है,
जिए जाने की रस्म जारी है|

गुलज़ार

मैं भी जिया हूँ वो भी जिया है!

हिज्र की रुत जाँ-लेवा थी पर ग़लत सभी अंदाज़े निकले,
ताज़ा रिफ़ाक़त* के मौसम तक मैं भी जिया हूँ वो भी जिया है|
* Companionship
अहमद फ़राज़

ख़्वाबों में खोकर जी लिया मैंने!

उन्हें अपना नहीं सकता मगर इतना भी क्या कम है,
कि कुछ मुद्दत हसीं ख़्वाबों में खोकर जी लिया मैंने|

साहिर लुधियानवी

ख़ुद पे कोई एहसान कर लिया है!

कुछ इस तरह गुज़ारा है ज़िंदगी को हमने,
जैसे कि ख़ुद पे कोई एहसान कर लिया है|

राजेश रेड्डी

मरने का ज़माना है!

ये हुस्न-ओ-जमाल उनका ये इश्क़-ओ-शबाब अपना,
जीने की तमन्ना है मरने का ज़माना है|

जिगर मुरादाबादी

एक आदत है जिए जाना भी!

नब्ज़ बुझती भी भड़कती भी है,
दिल का मामूल है घबराना भी,
रात अन्धेरे ने अन्धेरे से कहा,
एक आदत है जिए जाना भी|

कैफ़ी आज़मी