फिर भी कितने दूर खड़े हो!

कहने को रहते हो दिल में,
फिर भी कितने दूर खड़े हो|

मोहसिन नक़वी