सुब्ह की तन्हाई-ए-सफ़र सोचो!

वसीम’ सुब्ह की तन्हाई-ए-सफ़र सोचो,
मुशाएरा तो चलो रात भर का हो जाए|

वसीम बरेल
वी