Categories
Poetry

छोड़ जाएंगे ये जहां तन्हा !

विख्यात फिल्म अभिनेत्री मीना कुमारी जी एक अच्छी शायरा भी थीं और कविता की कद्रदान भी थीं| वास्तव मेँ कवि नीरज जी को फिल्मी दुनिया मेँ ले जाने वाली भी वही थीं |

आज मैं मीना कुमारी जी की एक ग़ज़ल शेयर कर रहा हूँ-, प्रस्तुत है यह ग़ज़ल-

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा,
दिल मिला है कहाँ-कहाँ तन्हा|

बुझ गई आस, छुप गया तारा,
थरथराता रहा धुआँ तन्हा|

ज़िन्दगी क्या इसी को कहते हैं,
जिस्म तन्हा है और जाँ तन्हा
|

हमसफ़र कोई गर मिले भी कभी,
दोनों चलते रहें कहाँ तन्हा|

जलती-बुझती-सी रोशनी के परे,
सिमटा-सिमटा-सा एक मकाँ तन्हा|

राह देखा करेगा सदियों तक
छोड़ जाएँगे ये जहाँ तन्हा।


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
********