भारत का सिंहद्वार!

मुंबई में दूसरा दिन निकल गया, कहीं ज्यादा निकलने की हिम्मत नहीं हुई। फिर सोचा कि शुरुआत अगर की जाए कुछ देखने की, शेयर करने की, तो प्रवेश स्थल से ही की जाए न। एक ऐसा प्रवेश द्वार जो सौ वर्ष से अधिक समय से, जलमार्ग द्वारा मुंबई, जो कि पहले बंबई थी वहाँ, बल्कि … Read more

मुंबई फिर एक बार!

लंबे समय के बाद एक बार फिर मुंबई जा रहा हूँ। बहुत पहले मुंबई में दो बार रहा हूँ, एक बार 2000 से 2001 तक, एक वर्ष अंधेरी (पूर्व) में, पवई में रहा था और उसके बाद 2012 में शायद 3 महीने तक अंधेरी (पश्चिम) में रहा था। तब मैं ब्लॉग नहीं लिखता था, इसलिए … Read more

Tourism for prosperity or destruction!

Today I am discussing  a subject related to tourism. Tourism is a very big industry today in the entire world. There are some small countries having beautiful landscape, rivers, hills etc. where the biggest source of earning is related to tourism. For tourists the whole country becomes a host, to serve them and earn good … Read more

Oh, I could not go there!

Just thinking how much a person can actually see, become familiar with in a city he lives in. Further so many cities some people have to live in, with change of locations due new jobs or change in posting, transfer etc. while there are some who spend their whole life at one place. There are … Read more

%d bloggers like this: