तस्वीर-सी महताब में आ जाती है!

रात भर जागते रहने का सिला है शायद,
तेरी तस्वीर-सी महताब में आ जाती है|

मुनव्वर राना

इसी पंजाब में आ जाती है!

दिल की गलियों से तेरी याद निकलती ही नहीं,
सोहनी फिर इसी पंजाब में आ जाती है|

मुनव्वर राना

अपने लहू से उसे ख़त लिखता हूँ!

रोज़ मैं अपने लहू से उसे ख़त लिखता हूँ,
रोज़ उंगली मेरी तेज़ाब में आ जाती है|

मुनव्वर राना

माँ दुआ करती हुई!

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है|

मुनव्वर राना

सियासत से तबाही का!

बड़ा गहरा तअल्लुक़ है सियासत से तबाही का,
कोई भी शहर जलता है तो दिल्ली मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना

फिर भी मुस्कुराती है!

हमें ऐ ज़िन्दगी तुझ पर हमेशा रश्क आता है,
मसायल से घिरी रहती है फिर भी मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना

तितली मुस्कुराती है!

चमन में सुबह का मंज़र बड़ा दिलचस्प होता है,
कली जब सो के उठती है तो तितली मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना

घर आ के बेटी मुस्कुराती है!

तभी जाकर कहीं माँ-बाप को कुछ चैन पड़ता है,
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना

तभी तो देख कर पोते को!

उछलते खेलते बचपन में बेटा ढूँढती होगी,
तभी तो देख कर पोते को दादी मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना

हिन्दी मुस्कुराती है!

लिपट जाता हूँ माँ से और मौसी मुस्कुराती है,
मैं उर्दू में ग़ज़ल कहता हूँ हिन्दी मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना