चाँद निकला तो सो गईं आँखें!

नक़्श लायलपुरी साहब एक प्रमुख साहित्यकार और फिल्मी गीतकार रहे हैं, उनके अनेक गीत हम आज भी गुनगुनाते हैं, जैसे ‘मैं तो हर मोड़ पर तुझको दूंगा सदा’, ‘कई सदियों से कई जन्मों से’ आदि-आदि|

आज उनकी एक सुंदर सी ग़ज़ल मैं शेयर कर रहा हूँ, जिसमें विभिन्न परिस्थितियों और मनः स्थितियों में आँखों की स्थिति को व्यक्त किया गया है-

तुझको सोचा तो खो गईं आँखें,
दिल का आईना हो गईं आँखें|

ख़त का पढ़ना भी हो गया मुश्किल,
सारा काग़ज़ भिगो गईं आँखें|

कितना गहरा है इश्क़ का दरिया,
उसकी तह में डुबो गईं आँखें|

कोई जुगनू नहीं तसव्वुर का,
कितनी वीरान हो गईं आँखें|

दो दिलों को नज़र के धागे से,
इक लड़ी में पिरो गईं आँखें|


रात कितनी उदास बैठी है,
चाँद निकला तो सो गईं आँखें|

‘नक़्श’ आबाद क्या हुए सपने,
और बरबाद हो गईं आँखें|


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
*********

नीम का पौधा हूँ, आँगन में लगा लो मुझको

प्रसिद्ध शायर और फिल्मी गीतकार नक़्श लायलपुरी जी की एक ग़ज़ल आज शेयर कर रहा हूँ| फिल्मों में उन्होंने बहुत प्यारे गीत लिखे हैं, जैसे- ‘मैं तो हर मोड़ पर तुझको दूंगा सदा’, ‘ये मुलाक़ात इक बहाना है’, ‘उल्फ़त में ज़माने की हर रस्म को ठुकराओ’ आदि-आदि|


लीजिए आज प्रस्तुत है नक़्श लायलपुरी जी की यह ग़ज़ल-

अपनी भीगी हुई पलकों पे सजा लो मुझको,
रिश्ता-ए-दर्द समझकर ही निभा लो मुझको|

चूम लेते हो जिसे देख के तुम आईना,
अपने चेहरे का वही अक्स बना लो मुझको|

मैं हूँ महबूब अंधेरों का मुझे हैरत है,
कैसे पहचान लिया तुमने उजालो मुझको|


छाँव भी दूँगा, दवाओं के भी काम आऊँगा,
नीम का पौधा हूँ, आँगन में लगा लो मुझको|

दोस्तों शीशे का सामान समझकर बरसों,
तुमने बरता है बहुत अब तो संभालो मुझको|

गए सूरज की तरह लौट के आ जाऊँगा,
तुमसे मैं रूठ गया हूँ तो मना लो मुझको|


एक आईना हूँ ऐ ‘नक़्श’ मैं पत्थर तो नहीं,
टूट जाऊँगा न इस तरह उछालो मुझको|



आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|


*********