Categories
Uncategorized

जैसे जैसे घर नियराया!

आज मैं श्रेष्ठ नवगीत एवं ग़ज़ल लेखक स्वर्गीय ओम प्रभाकर जी का एक छोटा सा और खूबसूरत नवगीत प्रस्तुत कर रहा हूँ| किस प्रकार हम अनेक प्रकार से अपने घर से जुड़े होते हैं| पुराने ग्रामीण परिवेश को याद करके इस गीत का और भी अच्छा आस्वादन किया जा सकता है|

लीजिए प्रस्तुत है स्वर्गीय ओम प्रभाकर जी का यह नवगीत –

जैसे-जैसे घर नियराया।

बाहर बापू बैठे दीखे
लिए उम्र की बोझिल घड़ियां।
भीतर अम्मा रोटी करतीं
लेकिन जलती नहीं लकड़ियां।


कैसा है यह दृश्य कटखना
मैं तन से मन तक घबराया।

दिखा तुम्हारा चेहरा ऐसे
जैसे छाया कमल-कोष की।
आंगन की देहरी पर बैठी
लिए बुनाई थालपोश की।


मेरी आंखें जुड़ी रह गईं
बोलों में सावन लहराया।


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
******

Categories
Uncategorized

हम जहाँ हैं, वहीं से आगे बढ़ेंगे!

हिन्दी के एक प्रतिष्ठित नवगीतकार हैं श्री ओम प्रभाकर जी, जिन्होंने अनेक प्रसिद्ध रचनाएँ दी हैं| आज उनकी जो रचना मैं शेयर कर रहा हूँ, वह मानव जीवन में निरंतर चल रहे संघर्ष को अभिव्यक्त करती है|

एक संघर्ष तो व्यक्ति के जीवन में चलता है और एक पीढ़ी दर पीढ़ी भी चलता जाता है| मानव जाति का भी एक संघर्ष है, जो हर पीढ़ी को आगे बढ़ाना होता है| लीजिए इसी संदर्भ में इस रचना का आनंद लीजिए-


हम जहाँ हैं
वहीं से आगे बढ़ेंगे,
देश के बंजर समय के
बाँझपन में,
याकि अपनी लालसाओं के
अंधेरे सघन वन में|


या अगर हैं
परिस्थितियों की तलहटी में,
तो वहीं से बादलों के रूप में
ऊपर उठेंगे,
हम जहाँ हैं वहीं से
आगे बढ़ेंगे|


यह हमारी नियति है
चलना पड़ेगा,
रात में दीपक
दिवस में सूर्य बन जलना पड़ेगा|

जो लड़ाई पूर्वजों ने छोड़ दी थी
हम लड़ेंगे,
हम जहाँ हैं
वहीं से आगे बढ़ेंगे|



आज के लिए इतना ही
नमस्कार|
******








Categories
Uncategorized

समय की नंगी सलीबों पर, गले में अटकी हुईं फाँसें!

आज मैं हिन्दी कविता और नवगीत के यशस्वी हस्ताक्षर श्री ओम प्रभाकर जी की एक कविता शेयर कर रहा हूँ| वैसे तो मनुष्य को जीवन में आशावादी होना चाहिए, लेकिन एक कवि अपने समय की सभी स्थितियों को अभिव्यक्त करता है, विसंगतियों को उजागर करता है| इन अभिव्यक्तियों का मूल उद्देश्य इंसानियत को जगाना ही होता है|

ओम प्रभाकर जी की इस रचना में भी आज के समय की विसंगतियों को बड़ी कुशलता से उजागर किया गया है| प्रस्तुत है यह रचना-

 

 

बीत गए दिन
फूल खिलने के।

 

होती हैं केवल वनस्पतियाँ
हरी-हरी-सी
हर गली
हर मोड़ पर बैठी
मौत अपनी बाँह फैलाकर।

 

बर्फ़-सा
जमता हुआ हर शख़्स
चुप्पियों में क़ैद हैं साँसें,
समय की नंगी सलीबों पर
गले में अटकी हुईं फाँसें,
लिख रहे हैं
लोग कविताएँ
नींद की ज्यों गोलियाँ खाकर।

 

बीत गए दिन
अब हवाओं में गन्धकेतु हिलने के
फूल खिलने के।

 

ढोती है काले पहाड़ दृष्टियाँ
सूर्य झर गए,
दृश्य घाटी में गहरे उतर गए,
बीत गए दिन
उठी बाँहों से बाँहों के मिलने के
फूल खिलने के।

 

 

आज के लिए इतना ही|
नमस्कार|

******