Categories
Uncategorized

पंजिम, मांडवी नदी और मीरामार!

आज फिर से पुरानी पोस्ट का दिन है, लीजिए मैं अपनी एक पुरानी पोस्ट, फिर से शेयर कर रहा हूँ|


पिछले दिनों मैंने देश-विदेश के कुछ स्थानों के भ्रमण पर आधारित ब्लॉग लिखे, जिनका प्रारंभ मैंने लंदन से किया था और इस बात को भी रेखांकित किया था कि लंदन के जीवन में थेम्स नदी की कितनी महत्वपूर्ण भूमिका है!


मैं पिछले कई वर्षों से गोआ के, पंजिम में रह रहा हूँ और अभी तक यहाँ से संबंधित कोई ब्लॉग पोस्ट नहीं लिखी है। इसका कारण यह भी है कि गोआ वैसे ही ट्रैवेल ब्लॉगर्स का हॉट फेवरिट है, बहुत ब्लॉग लिखे जाते हैं, यहाँ के बारे में। मेरा भी जब मन होगा, जब एक टूरिस्ट की तरह गोआ घूमूंगा तब शायद यहाँ के स्थानों के बारे में ट्रैवल ब्लॉग लिखूंगा। आज पंजिम, मीरामार और मांडवी नदी के बारे में बात कर लेता हूँ, जहाँ मुझे एक टूरिस्ट के रूप में नहीं बल्कि सामान्यतः कुछ कामों के लिए जाना पड़ता है।

जैसे नदी अथवा समुद्र वाले टूरिस्ट स्पॉट्स में सामान्यतः होता है, नाव अथवा शिप में यात्रा करना वहाँ की एक प्रमुख गतिविधि होती है, वह गोआ में, पंजिम में भी है। इसके अलावा यहाँ एक तरह से कई द्वीप हैं और कुछ स्थानों पर जाने के लिए सड़क मार्ग के मुकाबले जलमार्ग से जल्दी पहुंचा जा सकता है। गोआ में शिप में और अन्यत्र चलने वाले कैसिनो भी काफी लोकप्रिय हैं। वैसे यहीं के निवासी होने के नाते हम किसी विशेष अवसर पर अक्सर, सी-बीच पर स्थित किसी रेस्टोरेंट में भोजन के लिए चले जाते हैं।


अपने क्षेत्र पंजिम, गोआ के बारे में आज बात करते हुए आइए हम, पंजिम बस स्टैंड से मांडवी नदी के साथ-साथ मीरामार बीच की तरफ आगे बढ़ते हैं, मांडवी नदी का काफी चौड़ा पाट, समुद्र जैसा ही स्वरूप दिखाता है, नदी का नजारा वास्तव में देखने लायक है, इसमें अनेक आकर्षक नौकाएं और शिप दिखाई देते हैं, जिनमें चलने वाले कैसिनो भी पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। थोड़ा आगे बढ़ने पर, कंपाल में गोआ वन विभाग द्वारा विकसित किया गया विशाल पार्क है, जहाँ टूरिस्ट लोग विश्राम कर सकते हैं और प्राकृतिक छटाओं को निहार सकते हैं। इसके बाद नदी के किनारे पर ही ‘कला अकादमी’ का विशाल भवन है, जो एक बड़ा आकर्षण का केंद्र है, यहाँ सांस्कृतिक गतिविधियां चलती रहती हैं। जिनमें जहाँ हल्के-फुल्के नाटक होते हैं, वहीं गंभीर प्रस्तुतियां भी होती हैं। इस संस्थान के बारे में मौका मिलेगा तो बाद में विस्तार से लिखूंगा।


यहाँ से कुछ दूर आगे चलने पर हम मीरामार बीच पर पहुंच जाते हैं, जो काफी टूरिस्टों को आकर्षित करती है, विशेष रूप से इस बीच के बाहर चौपाटी है, जैसे मुंबई में है, शायद सभी जगह समुद्र के पास टूरिस्टों को खाने-पीने का आकर्षण प्रदान करने के लिए होती हो, यहाँ विशेष रूप से रात में बहुत भीड़ होती है, जब टूरिस्ट लोग दिन भर की भागदौड़ के बाद चटपटे व्यंजनों तथा आइस-क्रीम और कुल्फी का आनंद लेते हैं। (वैसे फिलहाल चौपाटी की गतिविधियां बंद हैं, शायद बाद में कुछ नया निर्माण होने के बाद यह फिर से चालू होगी|)इससे कुछ दूर जाने पर दोना-पाओला का व्यू पाइंट भी एक आकर्षण का केंद्र है।
पंजिम, मांडवी नदी और मीरमार बीच के बारे में, आज इतना ही।


नमस्कार।
********

Categories
Uncategorized

अंतर्राष्ट्रीय फिल्म उत्सव में -‘ताशकंद फाइल्स’

पणजी, गोवा में चल रहे 50 वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म उत्सव, आईएफएफआई-2019 का 28 नवंबर को समापन हो गया। ‘IFFI@50’ में फिल्मों के शौकीन लोगों को अनेक श्रेष्ठ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय फिल्में देखने को मिलीं।

 

इसी क्रम की एक कड़ी के रूप में प्रोड्यूसर शरद पटेल की फिल्म ‘ताशकंद फाइल्स’ को इस समारोह में काफी प्रशंसा प्राप्त हुई।

शरद पटेल की इस फिल्म को 50वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म उत्सव में विशेष प्रदर्शन के लिए आमंत्रित किया गया था। फिल्म का यह प्रदर्शन ‘हाउस फुल’ रहा और दर्शकों ने फिल्म को काफी सराहा। यह फिल्म वर्ष 2019 की सफलतम फिल्मों की श्रेणी में शामिल है।

यह फिल्म अप्रैल 2019 में रिलीज़ हुई थी तथा भारतवर्ष में और विदेशी छविगृहों में यह लगातार 100 दिनों तक प्रदर्शित हुई थी। इस फिल्म को अभी भी, आईएफएआई-2019 के दौरान प्रदर्शित किए जाने पर दर्शकों से बहुत सराहना प्राप्त हुई। श्री शरद पटेल दर्शकों के इस उत्साह को देखकर भावविभोर हो गए और उन्होंने कहा कि अच्छा होता कि फिल्म की पूरी टीम इस अवसर पर उपस्थित होती और इस रिस्पांस का आनंद लेती।

 

 

श्री शरद पटेल एसपी सिनेकॉर्प के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं और उन्होंने कुछ ऐसी फिल्में प्रोड्यूस की हैं जिनको बहुत प्रशंसा प्राप्त हुई है, जैसे ‘बुद्धा इन ट्रैफिक जाम’, और अत्यंत सफल गुजराती फिल्म- ‘छेल्लो दिवस’, वे हाल ही में अपनी नए गुजराती प्रोडक्शन ‘विक्किडा नो वर्घोडो’ के लिए चर्चा में रहे हैं, जिसमें गुजराती फिल्मों के सुपरस्टार मल्हार ठक्कर नायक की भूमिका निभा रहे हैं और राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त निर्देशक द्वय- राहुल भोले और विनीत कनौजिया इसका निर्देशन कर रहे हैं।

इस रिपोर्ट का विवरण तथा चित्र- बॉलीवुड प्रैस एंड मीडिया फोटोग्राफर- श्री अली कबीर (कबीर एम. लव) के सौजन्य से।

आज के लिए इतना ही,

नमस्कार।

*******

Categories
Uncategorized

मीरामार बीच गोवा की एक शाम!

अन्य स्थानों पर भ्रमण का विवरण तो लिखते ही रहते हैं, आज गोवा में मीरामार बीच पर सूर्यास्त और शाम के समय के कुछ चित्र शेयर कर रहा हूँ। आशा है आपको पसंद आएंगे-

 

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।