इस सूने घर में मेला लगता है!

दुनिया भर की यादें हम से मिलने आती हैं,
शाम ढले इस सूने घर में मेला लगता है|

क़ैसर उल जाफ़री