Categories
Uncategorized

ख़ून गिरा पी गई कचहरी!

आज एक श्रेष्ठ गीतकार स्वर्गीय रमेश रंजक जी का एक और गीत शेयर कर रहा हूँ| दिल्ली में रहते हुए उनसे मिलने के, उनका ओजस्वी काव्य-पाठ सुनने और उनके समक्ष अपनी कुछ रचनाएँ प्रस्तुत करने के भी अवसर प्राप्त हुए थे|
जैसे कोई योद्धा युद्ध में वीर-गति को प्राप्त होता है, रंजक जी के साथ ऐसा हुआ था कि दूरदर्शन के लिए कवि गोष्ठी की रिकॉर्डिंग के दौरान ही उनको दिल का दौरा पड़ा था, जो उनके प्राण लेकर ही गया|


आजकल अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत जी की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु के संदर्भ में ही नेताओं और अपराधियों के तंत्रजाल के संबंध में काफी चर्चा हो रही है|
ऐसे ही सदियों से चले आ रहे दुष्चक्र को उद्घाटित करता है रंजक जी का यह गीत–



परदे के पीछे मत जाना मेरे भाई !
टुकड़े-टुकड़े कर डालेंगे, बैठे हुए कसाई ।

बड़े-बड़े अफ़सर बैठे हैं,
माल धरे तस्कर बैठे हैं,
बैठे हैं कुबेर के बेटे,
ऐश लूटते लेटे-लेटे,
नंगी कॉकटेल में नंगी, नाच रही गोराई ।


इधर बोरियों की कतार,
पतलूनों में रोज़गार है,
बड़े-बड़े गोदाम पड़े हैं,
जिन पर नमक हराम खड़े हैं,
परदे के बाहर पहरे पर, आदमक़द महँगाई ।

जिसने उधर झाँककर देखा,
उसकी खिंची पीठ पर रेखा,
काया लगने लगी गिलहरी,
ख़ून गिरा पी गई कचहरी,
ऐसा क़त्ल हुआ चौरे में, लाश न पड़ी दिखाई ।


तेरी क्या औक़ात बावले,
जो परदे की ओर झाँक ले,
ये परदा इस-उसका चंदा,
समझौतों का गोल पुलंदा,
ऐसा गोरखधंधा, जिसकी नस-नस में चतुराई ।

जो इक्के-दुक्के जाएँगे,
वापस नहीं लौट पाएँगे,
जाना है तो गोल बना ले,
हथियारों पर हाथ जमा ले,
ऐसा हल्ला बोल कि जागे, जन-जन की तरुणाई ।


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|


*********

Categories
Uncategorized

What is truth?

Let’s talk a bit about truth. What is truth? Often it happens that we gather a number of facts and build a narrative to present something that we want people to believe and accept as truth.


Firstly I would like to quote a Shair by Urdu poet Krishna Bihari ‘Noor’ Ji, he says-


सच घटे या बढ़े तो सच न रहे,
झूठ की कोई इंतेहा ही नहीं|

Which means that if we add a little bit to the truth or decrease it a little bit, it does not remain truth, but when we are presenting some false picture, when we opt to tell lies, there is no limit about how far we can go.


We often listen to political leaders speaking about their parties, their values and achievements. They often know the art of presentation. They build a narrative by choosing the positive points associated with their party and appear to be quite convincing. When we listen to the party opposing them, then also we appear to be convinced. Same is the case with lawyers presenting the case of the victim or accused. The reason being that they choose the points which go in their favor to build the narrative and present the case.


For example, if we talk about the congress party in India, and some leader tells about the past achievements of the party, their role in the freedom movement, he can very well impress. But the fact remains that the congress party of today is in no way, the party that participated in the freedom struggle. The fact remains that it only has the same name, nothing else. Congress of that time was actually a movement, with all who wanted to fight for freedom gathered together for that mission. Today it has become a family owned party as per my narrative. But still one can present it any other way.


There could be so many examples, like the Sushant Singh Rajput suicide case. Suddenly we find that the Bollywood film fraternity appears to be having so many villains. Those people must have always been there, but suddenly when we find that a sensitive and creative young person lost his life due to bad behavior of some people there, this truth has surfaced. The guilty must be punished but the fact remains that the industry is the same which we adored earlier. There have always been all type of persons there. The nice people must be appreciated and the wicked must be exposed and punished, according to their acts.


Actually, truth does differ from person to person! For us truth is the way we see it. The color of the glasses we wear, we may call it our ideology or say political leaning, does determine how we see a particular activity, organisation or may be a person. There are people in the field of journalism who would never find anything done by Mr. Modi to be a positive step, while they never have the courage to oppose the senseless utterings of Mr. Rahul Gandhi, who keeps doing so.


So I would like to conclude that everybody has his or her own version of truth, depending on how he or she perceives it, political leaning and also vested interests, for which many people become part of some very powerful lobbies sometimes.


One more thing, in case of some activity done by somebody, whether it is some criminal act or one which benefits the society and which can’t be ignored by anybody, we can say that it is ‘naked truth’, since we can’t ignore some facts, inspite of the glasses of some ideology we wear, we can say that ‘it is naked truth’.

One more thing, in the present circumstances it is not easy to say that truth always wins, but I feel that our efforts and our faith should be so strong that it does make it happen. In any circumstances we must not lose this faith.


This is my humble submission on the #IndiSpire prompt- Why is it so difficult to establish the truth? Why is it called naked truth? Does truth really win? #NakedTruth

Thanks for reading.



********

Categories
Poetry Uncategorized

That stone, broke everything!

This is the story of Ravi, which I would write, as if he is writing it.

Today is going to be a day full of activities. Election results are to be announced today. My Netaji, who is my mentor, I have been living at his bungalow, the MLA residence, here in the capital city of the state, for over 10 years now.

Netaji is from my village and have been MLA for 3 terms now, he is considered to be quite senior and respectable leader in the state, whether his party is in power or not.

I remember the day almost 10 years back when I had done my graduation and Netaji was at his home in our village, where he kept visiting since his family lived there only and it was his constituency. Netaji personally knew my family, like so many other families in his village and also his constituency.

I had scored good marks in my graduation exams and my father took me to the Netaji residence to get his blessings on my becoming a graduate. Netaji had been a witness to my academic record, I also received awards in my school from him.

My father informed Netaji about my result, I touched his feet to get his blessings and while my father expressed his worries regarding my future, Netaji proposed that I can live at his MLA residence, attend to his works as his Personal Secretary and the salary he offered was nice, such that I could not think of  at that time, while I had mostly been confined to my village.

It is since then that I have been living at the official residence of Netaji, looking after his requirements, making his travel and stay arrangements whenever he visited somewhere. It was mostly during the sessions of the assembly only that Netaji lived there otherwise it was I only who lived at the bungalow all the time.

I do not carry very good image about political persons, now that I have lived over 10 years in the capital city, but I still feel that Netaji who is considered among the old guard in politics, still carries some values and has got a good image among the people.

Netaji have been winning elections almost in one-sided way, it was considered that there is nobody in his constituency who could give him a good fight. But it was not so this time. A young person from the opposition had served the local people in many ways before being declared the candidate against him. He put many proposals before the people regarding development and progress in the area and it was considered to be a tough fight this time.

In the meanwhile, politics have become quite dirty, there are fights among the supporters of various candidates and use of undignified language also by some people. Anyway, this time it was being felt that Netaji might lose the elections for the first time in his career. An incident which happened during the campaign actually changed the situation. Netaji had gone to campaign in his area when some person in the crowd threw a stone on him, he was hit in the forehead, was hospitalized and had to skip campaign for 2-3 days and this incident created a great sympathy wave among his electorate, who had been electing him term after term till now.

Anyway, it was almost a month back and by now elections were over and results were to be announced today. Many people would be visiting today and I have to make necessary arrangements for the guests, who are all sure about the victory of Netaji.

An incident happened last night however which have changed the image of my well-wisher and employer Netaji. He has been quite concerned about his image. He sometimes drinks but alone only, may be in my presence. But yesterday some of his friends and campaign in-charges had come they enjoyed drinks and also requested him to join and being thankful to them for their efforts, he also joined them.

He took whiskey in limits only however while they were discussing about elections somebody said ‘that very incident changed the situation completely’, on that Netaji suddenly said, ‘Your people should have acted more wisely. It hit me so hard that for a while I felt whether I would survive or not!’. The person replied, “ For reaping such benefits, this much is necessary, thank God it would get you elected this time.”
On listening all that I felt that I would suddenly fall down, it was such a sudden and big blow for me. It was too late to do anything when I found out who was behind it.

This is my humble submission on the #IndiSpire prompt-Write a short story that starts or ends with-  “It was too late to do anything when I found out who was behind it.” #shortstory

Thanks for reading.


Categories
Uncategorized

कोरोना संकट- जनता, सरकार और विपक्ष!

आज एक बार फिर से मैं कोरोना संकट और लॉक डाउन के अनुभव के बारे में बात कर रहा हूँ| मैं वैसे पणजी, गोवा में रहता हूँ लेकिन लॉक-डाउन की पूरी अवधि बंगलौर में गुज़री है| लगे हाथ यहाँ के एक विशेष अनुभव का भी ज़िक्र कर दूँ| बंगलौर के हेगड़े नगर में एक विशाल रिहायशी कॉम्प्लेक्स में रह रहा हूँ, 17वीं मंज़िल पर और लॉक-डाउन के दौरान 17वीं मंज़िल से नीचे नहीं उतरा हूँ| हाँ तो एक विशेष अनुभव जिसका मैं ज़िक्र कर रहा था, वो यह कि हमारी सोसायटी में, दिन में सामान्यतः 20-25 बार बिजली जाती है, कुछ ही देर में वापस आ जाती है, शायद ‘बैक अप’ के कारण, परंतु इन्टरनेट जाता है तो उसके आने में अधिक टाइम लग जाता है| होता यह है कि कई बार जब रात में बिजली जाती है तो यह सोचकर संतोष होता है कि बिजली विभाग वाले अभी भी काम कर रहे हैं!

 

 

खैर मैं बात कर रहा था भारतवर्ष में लॉक डाउन के अनुभव के बारे में| हमारे देश ने एक सच्चे जन नायक के नेतृत्व में लॉक डाउन का प्रारंभ किया तथा क्रमशः इसके विभिन्न चरणों में हम इस महा संकट का मुक़ाबला कर रहे हैं| मोदी जी परिस्थितियों के संबंध में मुख्य मंत्रियों और विशेषज्ञों की सलाह लेने के बाद आगामी कदमों का निर्णय लेते हैं तथा समय-समय पर जनता के साथ एक सच्चे जन-नायक, एक अभिभावक की तरह संवाद करते हैं| परंतु उनके राजनैतिक विरोधी तो स्वाभाविक रूप से उनमें एक तानाशाह को ही देखते हैं, क्योंकि मोदी जी के कारण ही जनता ने उन्हें कचरे के डिब्बे में फेंक दिया है|

लॉक डाउन लागू होने के समय यह आवश्यक था कि जो जहां है, वहीं रहे और हम इस बीच चिकित्सा व्यवस्था और अन्य आवश्यक ढांचे का निर्माण कर सकें, तब तक संक्रमण अधिक न फैल पाए और हम इसमें व्यापक रूप से सफल हुए हैं, इसका प्रमाण अनेक बड़े देशों के मुक़ाबले हमारी स्थिति देखकर समझा जा सकता है|

कुछ लोग शायद ये कह सकते हैं कि हमारा वर्तमान नेतृत्व कोरोना के खतरे के बारे में पहले से नहीं जानता था, इसलिए वह परिस्थितियों का अध्ययन करने के बाद ही उनका उपाय खोजता है| शायद कोई राहुल गांधी जैसा महाज्ञानी और त्रिकालदर्शी नेता होता तो वह कोरोना को यहाँ बिलकुल पनपने ही नहीं देता| खैर मैं इस विषय में अधिक चर्चा नहीं करना चाहूँगा!

आज हम कोरोना संकट से निपटने की दृष्टि से बेहतर स्थिति में हैं और हमें धीरे-धीरे सावधानी के साथ सामान्य स्थितियाँ बहाल करने की ओर आगे बढ़ना है| इस बीच प्रवासी मजदूरों की घर वापसी का एक बड़ा संकट आया| इस संकट में कुछ स्थानों पर विपक्षी सरकारों द्वारा न केवल प्रवासी मजदूरों पर ध्यान न दिया जाना अपितु उनको वापस जाने के लिए उकसाना भी शामिल था|

इस संदर्भ में यह प्रश्न भी उठाया जाता है कि क्यों उत्तर प्रदेश और बिहार के मजदूर इतनी बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर के रूप में कार्य करते हैं| इस संदर्भ में हमें यह भी ध्यान रखना होगा कि इन दो प्रदेशों में लंबे समय तक ऐसी क्षेत्रीय पार्टियों ने शासन किया है, जिनके पास केवल जातिवादी राजनीति थी, यह हिसाब था कि किनको ‘चार जूते’ मारने हैं| विकास तो उनका एजेंडा था ही नहीं, बस कुछ जाति और संप्रदायों को साथ लेकर उनको सत्ता में बने रहना था| वे चाहे यू पी में मुलायम सिंह, मायावती और अखिलेश यादव हों या बिहार में चारा घोटाले के महानायक- लालू प्रसाद यादव हों|

मैं आशा करता हूँ कि यूपी और बिहार की वर्तमान सरकारें ऐसी व्यवस्था करेंगी कि इन प्रदेशों से मजदूरों का पलायन भविष्य में कम से कम हो| क्योंकि वैसे तो एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश में रोजगार के लिए जाना कोई बड़ी बात नहीं है, बड़ी संख्या में लोग विदेशों में भी जाते हैं|

अंत में एक प्रसंग याद आ रहा है, लालू प्रसाद जी के जमाने के बिहार का| मैं उन दिनों जमशेदपुर के पास, हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड की मुसाबनी माइंस में काम करता था, जो अब झारखंड में हैं, उस समय बिहार में ही था, क्योंकि झारखंड राज्य बाद में बना था| हाँ तो हिंदुस्तान कॉपर की माइंस और कारखाने के बीच 8 किलोमीटर लंबी सार्वजनिक सड़क थी, जो जर्जर हालत में थी| उस कंपनी की तरफ से बिहार सरकार को पत्र लिखकर इस बात की अनुमति मांगी गई कि वे अपने खर्च पर उस सड़क की मरम्मत कर दें| इसके उत्तर में तब की बिहार सरकार से अनेक शर्तें लगाई गईं, जैसे कि सड़क पर पूरा अधिकार सरकार का रहेगा, सरकार कुछ खर्च नहीं करेगी और एक शर्त यह भी कि सरकार का एक इंजीनियर कंपनी का मेहमान बनकर काम को सुपरवाइज़ करेगा| हिंदुस्तान कॉपर प्रबंधन द्वारा यह शर्त स्वीकार नहीं की गई कि घोटालेबाज सरकार का प्रतिनिधि उनके काम को सुपरवाइज़ करे, उसमें अनावश्यक अड़ंगे लगाए और इस प्रकार वह काम नहीं हुआ|

फिर से, कोरोना संकट के बारे में बात करते हुए इतना ही कहूँगा कि हम इस अभूतपूर्व संकट का पूरी हिम्मत और विश्वास के साथ मुकाबला कर रहे हैं, और हमे विश्वास है कि हम अवश्य सफल होंगे|

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|

******

Categories
Uncategorized

हालचाल ठीक-ठाक है!

आज कुछ इधर-उधर की बात कर लेते हैं। कल एक फिल्म देखी थी- ‘पागलपंती’। वैसे तो ये एक अच्छी कॉमेडी मूवी है, जिसमें लॉजिक का ज्यादा महत्व नहीं होता। खास बात यह लगी कि इस फिल्म में निर्माता ने नीरव मोदी (फिल्म में नाम-नीरज मोदी रख दिया है)  को भी शामिल कर लिया और फिल्म के तीन मनहूस माने जाने वाले नायक अंत में नीरव मोदी की देश से चुराकर विदेश में ले जाई संपत्ति पर भी कब्ज़ा कर लेते हैं और अपने देश के अधिकारियों को सौंप देते हैं। नीरव मोदी के पूज्य मामाजी के दर्शन भी इस फिल्म में होते हैं।

 

 

सचमुच देखकर यही लगता है कि ये फिल्म वाले सभी समस्याओं को कितनी आसानी से हल कर लेते हैं। मुझे याद है कि हमारी कई फिल्मों में चीन और पाकिस्तान से जुड़ी समस्याओं को भी हल किया जा चुका है और जहाँ तक मुझे याद है पाकिस्तान के खूंखार आतंकवादी हाफिज सईद को भी एक-दो फिल्मों में निपटाया जा चुका है, बस हमारी सरकारें ही इतनी स्मार्ट नहीं होतीं, अगर हमारे फिल्म निर्माता सरकार चलाने लगें तो क्या बात है। वैसे अनुराग कश्यप, नसीरुद्दीन शाह और जावेद अख्तर जैसे कुछ लोग तो बेचारे कब से सरकार चलाने के लिए बेताब हैं।

एक बात और आज हुई, काफी दिनों से मध्य प्रदेश सरकार में ज्योतिरादित्य सिंधिया के और उनके साथ शायद 22  कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के कारण आए संकट के कारण, आज राज्यपाल के निर्देश पर सत्र बुलाया गया था और निर्देश यह था कि कमल नाथ अपना बहुमत सिद्ध करें, वैसे यह तो निश्चित था कि ऐसे में विधानसभा अध्यक्ष वैसी ही भूमिका निभाएंगे, जैसी पिछले काफी समय से इस पद पर सुशोभित लोग निभाते आए हैं। इस भूमिका को देखकर याद आता है कि छोटे बच्चे जब क्रिकेट खेलते हैं, या कोई और खेल भी हो सकता है, तब बहुत सी बार वे अपने पक्ष का ऐसा अंपायर बनाते हैं, जो उनके किसी खिलाड़ी को आसानी से आउट न दे और इस लड़ाई को आवश्यकतानुसार किसी भी सीमा तक ले जाए।

फिलहाल ‘कोरोना वायरस’ ने कमल नाथ सरकार की रक्षा कर दी, लेकिन राज्यपाल महोदय ने फिर से चेतावनी दी है और कल सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले पर सुनवाई है क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री इस मामले को वहाँ ले गए हैं।

एक बात और  ‘कोरोना वायरस’ के कारण जहाँ भीड़ के जुटने वाली अनेक गतिविधियां, स्कूल, कालेज, क्लब, स्विमिंग पूल, कार्यालय आदि भी फिलहाल बंद कर दिए गए हैं, लोगों से अपील की गई है कि शादी आदि में अधिक लोग एकत्रित न हों और फिलहाल उनको स्थगित किया जा सके तो अच्छा है। लेकिन ऐसे में भी दादियों का शाहीन बाग प्रोटेस्ट अभी बदस्तूर जारी है। मेरा स्पष्ट मानना है कि इन बेचारी महिलाओं में अपना दिमाग नहीं है, हाँ तीस्ता सीतलवाड़ जैसी कुछ अति बुद्धिमती महिलाएं इनको समझाने अवश्य आती हैं और कुछ शातिर दिमाग लोग इस धरने को पीछे से संचालित कर रहे हैं और उनको राष्ट्रीय स्वास्थ्य आपदा से भी कोई मतलब नहीं है। ये शातिर दिमाग लोग यही चाहते हैं कि पुलिस इनको हटाए, इस प्रक्रिया में कुछ महिलाओं और बच्चों की मृत्यु भी हो जाए तो शायद इन शातिर दिमाग लोगों को कुछ और मसाला मिल जाएगा।

देखिए क्या होता है, इस देश का तो वैसे भी भगवान ही मालिक है।

आज के लिए इतना ही।
नमस्कार।

*****

Categories
Uncategorized

दिल्ली चुनाव- मुफ्त में भाजी, मुफ्त में खाजा!

आज अपनी दिल्ली को याद करने का मन हो रहा, जहाँ मेरा बचपन बीता और जहाँ मैंने शुरू की कुछ नौकरियां की थीं। मेरा जन्म वहाँ 1950 में हुआ था, जब आज़ादी के बाद दिल्ली बस रही थी, चारदीवारी वाली पुरानी दिल्ली के पार दूर-दूर तक। उस समय की एक गतिविधि जो चुनाव के समय जोर-शोर से होती थी, वह थी कि नई-नई झुग्गी-झौंपड़ी बस्तियां बस जाती थीं और उन पर राजनैतिक पार्टियों के झंडे लग जाते थे। मुख्यतः उस समय भी कांग्रेस और जनसंघ (आज की बीजेपी) होती थीं, कुछ हद तक उस समय कम्युनिस्ट भी होते थे, जो अब दिल्ली क्या लगभग पूरे देश से ही मिट चुके हैं। उस समय जो बस्तियां चुनाव के मौसम में बसती थीं, आज वे जे.जे.कालोनियां बन चुकी हैं। जिन्होंने ज्यादा मेहनत की, ज्यादा बड़े भूखंडों पर कब्ज़ा किया, वे आज अनधिकृत होने का कलंक ढोत-ढोते करोड़पति हो गए हैं, जबकि जो ईमानदारी से रहे वे आज भी अपना छोटा सा घर नहीं बना पाए हैं। राजनीति ऐसे ही चलती रही है।

 

 

आज बहुत कुछ बदल चुका है। इसमें कोई संदेह नहीं कि अब तक दिल्ली ने बहुत प्रगति की है, मैट्रो और बहुत अच्छी क्वालिटी की सड़कें। मैं शाहदरा में रहता था, जहाँ से दिल्ली को जोड़ने वाला एक ही रेल और सड़क वाला पुल था, सैंकड़ों वर्ष पुराना, जिसको पार करके असली दिल्ली में आना, समय के साथ एक जटिल कार्य हो गया था, घंटों गाड़ियां वहाँ रुकी रहती थीं, आज इतने पुल बन गए हैं कि पता ही नहीं चलता कि बीच में यमुना भी है।

दिल्ली एक फाइनेंशियली रिच कैपिटल सिटी है, अक्सर यहाँ की सरकारों की चिंता ये रही है कि बजट कहाँ खर्च करें। मैं ज्यादा लंबी बात न करते हुए सीधे शीला दीक्षित जी के 15 वर्ष के शासन का ज़िक्र करूंगा, तब तक बीजेपी और कांग्रेस के शासन कालों में दिल्ली को बहुत आधुनिक स्वरूप मिल चुका था, मैट्रो और सुंदर सड़कें, ऐसे में श्री केजरीवाल जी की दिल्ली की गद्दी पर स्थापना हुई। अब तुरंत विकास के लिए कोई बड़ा चैलेंज नहीं था और यदि था तो उस पर केजरीवाल जी ने कोई बड़ा काम नहीं किया। नए स्कूल और कॉलेज बनाने के लक्ष्य पर उन्होंने कुछ नहीं किया, फिर भी वे आज इतने लोकप्रिय हैं कि चुनाव को पूरी तरह स्वीप कर लिया। बीजेपी की पिछले चुनाव में 3 सीटें आई थीं और इस बार 8 सीटें। इससे पहले 15 वर्ष तक दिल्ली पर राज करने वाली अत्यंत लोकप्रिय मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित जी की कांग्रेस पार्टी को पिछली बार भी ‘शून्य’ मिला था और इस बार भी!

आखिर ऐसा क्या चमत्कार किया है केजरीवाल जी ने, उनका प्रचार और कार्यकर्ताओं की मेहनत तो है ही, इसके अलावा और क्या है?

एक दो पॉज़िटिव काम जो केजरीवाल जी ने किए हैं, उनका मैं पहले ज़िक्र करना चाहूंगा। एक काम तो ‘मुहल्ला क्लीनिक’ का है, जिनमें ‘आप’ के समर्पित कार्यकर्ताओं का बड़ा योगदान है। पहले भी सरकारी डिस्पेंसरी हुआ करती थीं, जो बड़े पैमाने पर ‘नॉन परफॉर्मिंग एसेट’ बन चुके थे। उन पर पैसा बर्बाद करने के स्थान पर, छोटे पैमाने पर यह सेवा इस प्रकार उपलब्ध कराने से लोगों में अच्छा संदेश गया, ये एक सच्चाई है।

एक और काम जो मेरी समझ में आता है कि इन्होंने सरकारी स्कूलों की हालत में कुछ सुधार किया, हालांकि ये नए स्कूल नहीं बना पाए, लेकिन ज्यादा बड़ी बात ये है कि शिक्षा के नाम पर धंधा चलाने वाले प्राइवेट ग्रुप्स को इन्होंने मनमाने ढंग से फीस नहीं बढ़ाने दी और आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्गों के लिए भी वहाँ प्रवेश को संभव बनाया।

मुझे फिलहाल ये दो ही पॉज़िटिव उपलब्धियां याद आ रही हैं, लेकिन इनके कारण वोटों में बहुत बड़ा बदलाव संभव नजर नहीं आता!

राजनीति में पार्टियों का सत्ता में आना-जाना लगा रहता है, और ये कोई बड़ी बात नहीं है। बड़ी बात ये है कि इससे पहले 15 वर्ष तक दिल्ली पर शासन करने वाली पार्टी के लगभग सभी प्रत्याशियों की जमानत ज़ब्त हो गई। जिन आधारों पर केजरीवाल जी की ‘आम आदमी पार्टी’ को इतना भारी बहुमत मिला, वास्तव में वे आधार बहुत खतरनाक दिशा का संकेत करते हैं।

अब मैं उन कारणों का उल्लेख करना चाहूंगा जो वास्तव में इस आश्चर्यजनक परिणाम का कारण रहे हैं। और विश्वास कीजिए ये सिर्फ और सिर्फ वस्तुओं और सेवाओं को मुफ्त उपलब्ध कराए जाने के कारण हुआ है।

मुझे एक बहुत पुरानी नीति-कथा याद आ रही है, ‘अंधेर नगरी’, आपको मालूम होगा इस कथा में किसी गुरूजी का शिष्य ऐसे राज्य में पहुंच जाता है जहाँ हर वस्तु ‘टके सेर’ मिलती है। चेला बहुत खुश होता है और सस्ता माल खा-खाकर मोटा हो जाता है, उसके गुरुजी उसको चेतावनी भी देते हैं। वो मुसीबत में पड़ता है और बड़ी मुश्किल से अपनी जान बचा पाता है।

सरकारें इसलिए होती हैं कि वे जनता से जो कर आदि वसूल करती हैं, उनसे वे जनता को नागरिक सुविधाएं प्रदान करें। स्वास्थ्य, शिक्षा, सड़कें, रोज़गार और सभी नागरिक सुविधाएं। सरकार का यह भी दायित्व है कि जो पिछड़े हुए हैं, उनको आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करे, उनको कुछ रियायत दे आदि-आदि।

श्रीमान केजरीवाल जी ने नया फार्मूला निकाला बिजली हॉफ, पानी माफ!  लेकिन ये सुविधा किसके लिए?  जैसा मैंने कहा आर्थिक अथवा सामाजिक पिछड़ेपन के आधार पर ये सुविधाएं प्रदान की जानी चाहिएं। ये किस आधार पर किया जा रहा है। अभी किसी डिबेट में ‘आप’ के एक वक्ता बोल रहे थे पत्रकारों से, आप में से भी बहुत से लोग ये सुविधा ले रहे हैं, जिनका 1-2 लोगों का परिवार है, एक टीवी, छोटा फ्रिज है, दोनो काम पर जाते हैं, उनका बिल भी ‘ज़ीरो’ आता है। लेकिन क्या यह ठीक है। जो लोग अच्छी कमाई कर रहे हैं, वो बिल का भुगतान न करे, क्योंकि खपत कम है, और इस तरह के बहुत सारे लोगों को दी गई इस ‘मुफ्तखोरी’ की सुविधा की भरपाई आखिर कौन करेगा! यह राजनीति को बहुत खतरनाक दिशा में ले जाना है।

श्री केजरीवाल जी के वोट कैचिंग प्रयासों में एक धर्म विशेष के मामले में कुछ लोगों (इमामों) को वेतन देना भी शामिल है, देश में और भी धर्म हैं सर जी, लेकिन शायद ‘सैक्युलर’ धर्म एक ही है।

केजरीवाल जी का लेटेस्ट  ‘मास्टर स्ट्रोक’ मेरी निगाह में तो शर्मनाक है। महिलाओं को बस में मुफ्त यात्रा! मेरा तो ऐसा मानना था कि स्वाभिमानी महिलाएं इसे रिजेक्ट कर देंगी। आप महिलाओं को, बुज़ुर्गों को सुविधा दीजिए, लेकिन ये मुफ्तखोरी की संस्कृति क्यों विकसित कर रहे हैं। क्या महिला होने का मतलब ही गरीब होना है! कोई महिला अभी टीवी पर बोल रही थी कि उसे वैसे तो बस में नहीं जाना होता था, लेकिन ‘अब फ्री हो गया है तो घूम आती हूँ’। इस प्रकार ये अराजकता की ओर भी एक कदम है, माफ कीजिए महिलाओं में भी हर प्रकार के प्राणी होते हैं, इस सुविधा का लोग गलत किस्म के प्राणी अवश्य ही उठाना चाहेंगे। आखिर मुफ्तखोरी के इन प्रपंचों का भार भी तो भोली-भाली टैक्स देने वाली जनता को ही उठाना पड़ेगा।

केजरीवाल जी एक संपन्न राजधानी क्षेत्र में काम कर रहे हैं, जहाँ किसान भी गिने-चुने हैं। आप यहाँ ऊंची क्षतिपूर्ति की घोषणा कर सकते हैं, शहीद को एक करोड़ देकर भी नाम कमा सकते हैं। लेकिन यूपी, एमपी आदि जैसे बड़े प्रदेश अगर इस प्रकार की सुविधाओं की घोषणा करेंगे, तो वो सरकार बिक जाएगी।

यह मुफ्तखोरी की संस्कृति का ही कमाल है कि दिल्ली में दूसरी पार्टियां, मुकाबले से लगभग बाहर हो गई हैं। केजरीवाल जी की सफलता को ‘कैच’ करते हुए ममता दीदी ने भी ऐलान कर दिया कि वे बेरोज़गारी भत्ता देंगी। ऐसा ही प्रयास पिछली बार राहुल बाबा ने भी किया था, शुक्र है कि जनता ने  उसे स्वीकार नहीं किया, आप रोज़गार की गारंटी  दीजिए, घर बिठाकर क्यों खिलाते हैं। दीदी तो वैसे तृणमूल की तरफ से गुंडागर्दी करने के लिए भी बहुत से लोगों को रोज़गार दे सकती हैं।

मैं आखिर में यह दोहराना चाहूंगा कि केजरीवाल जी दिल्ली के परिवारों के बड़े बेटे बनना चाहते हैं, तो अवश्य बनें, लेकिन ‘मुफ्तखोरी’ की संस्कृति को बढ़ावा देकर नहीं। इसका संदेश देश में बहुत बुरा जाएगा। मुझे लगा कि आज ये बात अवश्य कहनी चाहिए, सो कह दी, बाकी तो ईश्वर मालिक है।

आज के लिए इतना ही,

नमस्कार।

******