क्यों मेरे शेर हैं मक़बूल!

मुझसे करते हैं “क़तील” इसलिये कुछ लोग हसद,
क्यों मेरे शेर हैं मक़बूल हसीनाओं में|

क़तील शिफ़ाई