सौदा जिससे करने आये थे!

उसने कितने प्यार से अपना कुफ़्र दिया नज़राने में,
हम अपने ईमान का सौदा जिससे करने आये थे|

क़तील शिफ़ाई