बदलियाँ, बरखा रूतें, पुरवाइयाँ!

ज़ख्म दिल के फिर हरे करने लगी,
बदलियाँ, बरखा रूतें, पुरवाइयाँ|

कैफ़ भोपाली