हर निगाह ख़रीदार की तरह!

हम हैं मता-ए-कूचा-ओ-बाज़ार की तरह,
उठती है हर निगाह ख़रीदार की तरह|

मजरूह सुल्तानपुरी