भँवर बांध लिये पाँवों में!

रक़्स करने का मिला हुक्म जो दरियाओं में,
हमने ख़ुश होके भँवर बांध लिये पाँवों में|

क़तील शिफ़ाई