कोई अता-पता ही नहीं!

जिसके कारण फ़साद होते हैं
उसका कोई अता-पता ही नहीं।

कृष्ण बिहारी ‘नूर’