हमसे भागा न करो, दूर!

हमसे भागा न करो, दूर ग़ज़ालों की तरह,
हमने चाहा है तुम्हें चाहने वालों की तरह|

जाँ निसार अख़्तर