दिल की धड़कन को भी!

सिर्फ़ आँखों से ही दुनिया नहीं देखी जाती,
दिल की धड़कन को भी बीनाई बनाकर देखो |

निदा फ़ाज़ली

अपने बयान में रखना!

जो देखती हैं निगाहें वही नहीं सब कुछ,
ये एहतियात भी अपने बयान में रखना |

निदा फ़ाज़ली