Categories
Uncategorized

उनकी याद, उनकी तमन्ना, उनका ग़म!

शकील बदायुनी साहब भारत के एक जाने–माने शायर थे और हिन्दी फिल्मों के लिए भी उन्होंने कुछ बहुत नायाब गीत लिखे हैं| उनका एक शेर तो मुझे अक्सर याद आता है- ‘जब चला ज़िक्र ज़माने में मोहब्बत का शकील, मुझको अपने दिल-ए-नाकाम पे रोना आया!’

लीजिए आज प्रस्तुत है शकील साहब की यह ग़ज़ल-

सुब्ह का अफ़साना कहकर शाम से,
खेलता हूं गर्दिशे-आय्याम से|

उनकी याद उनकी तमन्ना, उनका ग़म,
कट रही है ज़िन्दगी आराम से|

इश्क़ में आएंगी वो भी साअ़तें,
काम निकलेगा दिले-नाकाम से|


लाख मैं दीवाना-ओ-रूसवा सही,
फिर भी इक निस्बत है तेरे नाम से|

सुबहे-गुलशन देखिए क्या गुल खिलाए,
कुछ हवा बदली हुई है शाम से|

हाय मेरा मातमे-तश्नालबी,
शीशा मिलकर रो रहा है जाम से|


हर नफ़स महसूस होता है ‘शकील’,
आ रहे हैं नामा-ओ-पैग़ाम से|


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
******