इक तार कहीं से टूट गया!

इस नग़्मा-तराज़-ए-गुलशन ने तोड़ा है कुछ ऐसा साज़-ए-दिल,
इक तार कहीं से टूट गया इक तार कहीं से टूट गया|

शमीम जयपुरी

पैवस्त हुआ और टूट गया!

क्या शय थी किसी की पहली नज़र कुछ इसके अलावा याद नहीं,
इक तीर सा दिल में जैसे लगा पैवस्त हुआ और टूट गया|

शमीम जयपुरी

आया हुआ दामन छूट गया!

जब दिल को सुकूँ ही रास न हो फिर किससे गिला नाकामी का,
हर बार किसी का हाथों में आया हुआ दामन छूट गया|

शमीम जयपुरी

हर मय-कश का दिल टूट गया!

साक़ी के हाथ से मस्ती में जब कोई साग़र छूट गया,
मय-ख़ाने में ये महसूस हुआ हर मय-कश का दिल टूट गया|

शमीम जयपुरी

इक दिल था वो भी टूट गया!

दुनिया-ए-मोहब्बत में हमसे हर अपना पराया छूट गया,
अब क्या है जिस पर नाज़ करें, इक दिल था वो भी टूट गया|

शमीम जयपुरी

कभी तोड़ दिए जाते हैं!

आबगीनों की तरह दिल हैं ग़रीबों के ‘शमीम’ ,
टूट जाते हैं कभी तोड़ दिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी

जो ज़हर पिए जाते हैं!

अपनी तारीख़-ए-मोहब्बत के वही हैं सुक़रात,
हँस के हर साँस पे जो ज़हर पिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी

सर-आँखों पे लिए जाते हैं!

उनके क़दमों पे न रख सर, के है ये बे-अदबी,
पा-ए-नाज़ुक तो सर-आँखों पे लिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी

आँसू भी पिए जाते हैं!

नश्शा दोनों में है साक़ी मुझे ग़म दे के शराब,
मय भी पी जाती है, आँसू भी पिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी

अँधेरों को दिए जाते हैं!

हम हैं एक शम्अ मगर देख के बुझते बुझते,
रौशनी कितने अँधेरों को दिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी