और जताया भी नहीं!

तुम तो शायर हो “क़तील” और वो इक आम सा शख़्स,
उसने चाहा भी तुझे और जताया भी नहीं|

क़तील शिफ़ाई