वो ज़मीं महके वो शजर महके!

वो घड़ी, दो घड़ी जहाँ बैठे,
वो ज़मीं महके वो शजर महके|

डॉ. नवाज़ देवबंदी