नई तहज़ीब के पेशे-नज़र हम!

अब नई तहज़ीब के पेशे-नज़र हम,
आदमी को भून कर खाने लगे हैं|

दुष्यंत कुमार