ध्यान में लाते हुए मर जाते हैं!

किस तरह लोग चले जाते हैं उठ कर चुप-चाप,
हम तो ये ध्यान में लाते हुए मर जाते हैं|

अब्बास ताबिश