रेशमो -किमख़्वाब में आ जाती है!

ज़िन्दगी तू भी भिखारिन की रिदा ओढ़े हुए,
कूचा – ए – रेशमो -किमख़्वाब में आ जाती है|

मुनव्वर राना